http://WWW.ASTROLOGYSERVICESINDIA.IN
PTMUKESHGAUR 58cfd642fc6b0f0bdc255fef False 225 8
OK
background image not found
Found Update results for
'jaipur pink cityprovide'
5
Astrologer in jaipur, pandit mukesh gaur is a Astrologer in Jaipur, Prowide the all astrology services in Love Problem Love marriage problem Kundli Milan Grahdosh, Pitr dosh & All astrology services, contact by Astrologer in jaipur phone / what's up +9198294-52307
⁠Love problem specialist astrologer, Pandit mukesh gaur is a Love problem specialist astrologer in Jaipur, Love related problem by Love Marriage problem, Parents are not agry, Relationship problem all Love Problem solution by Pandit mukesh gaur jaipur( Diamond gold medelist ) contact - whats up / phone no.+9198294-52307 0141-4015802
Free Astrology consultancy services in jaipur pink city.Our Astrology services Astrology Vastu Kundli prediction Kundli matching Love Astrology Computerised Kundli Palmistry Precious Stone Vedic Astrology etc Astrological solution are some time Astrology problem solution call me now 9829452307/01414015802/9829055802 Guaranteed solutions mail-sharmamukesh3@gmail.com
Astrologer in jaipur Pandit mukesh gaur is a astrologer, specialist in vastu
4 अप्रैल 2017, चैत्र शुक्ल 8 नवरात्रि Jyotish.pt mukesh gaur jaipur Mobile....09829452307 http://www.astroyatra.com नवदुर्गा हिन्दू धर्म में माता दुर्गा अथवा पार्वती के नौ रूपों को एक साथ कहा जाता है। इन नवों दुर्गा को पापों की विनाशिनी कहा जाता है, हर देवी के अलग अलग वाहन हैं, अस्त्र शस्त्र हैं परंतु यह सब एक हैं। निम्नांकित श्लोक में नवदुर्गा के नाम क्रमश: दिये गए हैं-- प्रथमं शैलपुत्री च द्वितीयं ब्रह्मचारिणी। तृतीयं चन्द्रघण्टेति कूष्माण्डेति. चतुर्थकम्।। पंचमं स्कन्दमातेति षष्ठं कात्यायनीति च। सप्तमं कालरात्रीति.महागौरीति चाष्टमम्।। नवमं सिद्धिदात्री च नवदुर्गा: प्रकीर्तिता:। उक्तान्येतानि नामानि ब्रह्मणैव महात्मना:।। महागौरी माँ दुर्गाजी की आठवीं शक्ति का नाम महागौरी है। दुर्गापूजा के आठवें दिन महागौरी की उपासना का विधान है। इनकी शक्ति अमोघ और सद्यः फलदायिनी है। इनकी उपासना से भक्तों को सभी कल्मष धुल जाते हैं, पूर्वसंचित पाप भी विनष्ट हो जाते हैं। महागौरी : मां दुर्गा का आठवां स्वरूप नवरात्रि में दुर्गा पूजा के अवसर पर बहुत ही विधि-विधान से माता दुर्गा के नौ रूपों की पूजा-उपासना की जाती है। आइए जानते हैं आठवीं देवी महागौरी के बारे में :- यह अमोघ फलदायिनी हैं और भक्तों के तमाम कल्मष धुल जाते हैं। पूर्वसंचित पाप भी नष्ट हो जाते हैं। महागौरी का पूजन-अर्चन, उपासना-आराधना कल्याणकारी है। इनकी कृपा से अलौकिक सिद्धियां भी प्राप्त होती हैं। नवरात्रि में आठवें दिन महागौरी शक्ति की पूजा की जाती है। नाम से प्रकट है कि इनका रूप पूर्णतः गौर वर्ण है। इनकी उपमा शंख, चंद्र और कुंद के फूल से दी गई है। अष्टवर्षा भवेद् गौरी यानी इनकी आयु आठ साल की मानी गई है। इनके सभी आभूषण और वस्त्र सफेद हैं। इसीलिए उन्हें श्वेताम्बरधरा कहा गया है। 4 भुजाएं हैं और वाहन वृषभ है इसीलिए वृषारूढ़ा भी कहा गया है
1
false